सावन के पहले सोमवार को श्री काशी विश्वनाथ धाम में उमड़े भक्त।

बाबा के दर्शन को रात से ही लग गई लाइन, सात लाख भक्तों के दर्शन का अनुमान।

64

जर्नलिज़्म टुडे संवाददाता 

वाराणसी: श्री काशी विश्वनाथ धाम में सावन के पहले सोमवार को भोलेनाथ के दर्शन को भक्त उमड़ पड़े। रात से ही भक्तों की लाइन लग गई। लगभग एक किलोमीटर लंबी बैरिकेडिंग की गई है। भक्त लाइन में लगकर बाबा का झांकी दर्शन और जलाभिषेक कर रहे हैं। कारिडोर में कांवरियों व श्रद्धालुओं के स्वागत के लिए रेड कारपेट बिछाई गई है। प्रवेश द्वार पर पुष्प वर्षा कर उनका स्वागत किया गया। श्रद्धालुओं की भीड़ के मद्देनजर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं।

वैसे तो श्री काशी विश्वनाथ कारिडोर बनने के बाद श्रद्धालुओं की संख्या काफी बढ़ गई है। सावन में इसमें कई गुना इजाफा होने का अनुमान है। सावन के पहले दिन से ही बाबा के दर्शन के लिए भक्त पहुंचने लगे थे। सावन के पहले सोमवार को श्री काशी विश्वनाथ के दर्शन-पूजन और जलाभिषेक के लिए श्रद्धालुओं का तांता लग गया। रात से ही कांवरिये व श्रद्धालु लाइन में लग गए। सोमवार की भोर में बाबा विश्वनाथ की मंगला आरती की गई। इसके बाद दर्शन-पूजन का क्रम शुरू हुआ। प्रशासन की ओर से लगभग एक किलोमीटर लंबी बैरिकेडिंग कराई गई है। श्रद्धालु लाइन में लगकर एक-एककर दर्शन-पूजन कर रहे हैं। श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुए बाबा के स्पर्श दर्शन पर रोक है।

सावन के पहले सोमवार को लगभग सात लाख श्रद्धालुओं के दर्शन-पूजन का अनुमान है। आज के दिन बाबा विश्वनाथ का विशेष श्रृंगार किया गया है। भक्त बाबा के झांकी दर्शन कर रहे हैं। वहीं पाइप के जरिये जलाभिषेक, दुग्धाभिषेक और फूल चढ़ाया जा रहा है। मंदिर प्रशासन की ओर से ऐसे इंतजाम किए गए हैं कि ताकि भक्तों को ज्यादा समय तक इंतजार न करना पड़े। भक्तों को गर्भगृह के पास महज दो-चार सेकेंड ही रुकने दिया जा रहा है।