कोरोना महामारी के दौरान मजबूत हुए भारत-UAE के संबंधः राजदूत पवन कपूर

16

दुबई : संयुक्त अरब में बुधवार को खलीज टाइम्स द्वारा आयोजित ग्लोबल इन्वेस्टमेंट फोरम के दौरान भारतीय राजदूत पवन कपूर ने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान संयुक्त अरब अमीरात (UAE) और भारत के बीच संबंध मजबूत हुए हैं और यह दोनों देशों द्वारा एक-दूसरे को प्रदान किए जा रहे निरंतर समर्थन में परिलक्षित होता है। राजदूत पवन कपूर ने कहा कि कोराना काल में लगाए गए प्रतिबंधों के बावजूद  दोनों देशों के बीच आयात-निर्यात का सिलसिला निरंतर चलता रहा है।  इस दौरान दोनों देशों खाद्य सुरक्षा के लिए भी एक गलियारा बनाया है।

UAE और भारत के बीच  एयर बबल समझौता  बाधित होने पर राजदूत  पवन ने कहा कि भारतीय दूतावास अधिकारियों के साथ बातचीत कर रहा है और उम्मीद है कि भारत में स्थिति में सुधार होते ही उड़ान सेवाएं फिर से शुरू हो जाएंगी। उन्होंने कहा कि हम UAE  के अधिकारियों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं ताकि UAE  निवासी  भारतीय प्रवासियों को अमीरात वापस लाया जा सके।

राजदूत पवन ने कहा कि हमने अधिकारियों से बात की है और विदेश कार्यालय ने हमारा काफी समर्थन किया है लेकिन यह राष्ट्रीय आपातकालीन संकट और आपदा प्रबंधन (एनसीईएमए) द्वारा लिया गया निर्णय है। हमें उम्मीद है कि अधिकारियों के लिए पहले की तरह एयर बबल को फिर से शुरू करने की अनुमति देने के लिए जल्द ही स्थिति में सुधार होगा।”

राजदूत ने बताया कि निवेश  के मामले में  संयुक्त अरब अमीरात भारत में शीर्ष दस निवेशकों में से एक रहा है। “महामारी के दौरान मार्च 2021 को समाप्त हुए वित्तीय वर्ष के लिए भारत को खुदरा क्षेत्र में रिकॉर्ड 81.7 बिलियन डॉलर का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश प्राप्त हुआ। यह पिछले वर्ष की तुलना में 8 प्रतिशत अधिक है । पवन कपूर ने कहा कि मुझे यह  बताते हुए गर्व हो रहा है कि UAE से भारत को ADIA (अबू धाबी इन्वेस्टमेंट अथॉरिटी) और मुबाडाला इन्वेस्टमेंट कंपनी के माध्यम से 3.5 बिलियन डॉलर का निवेश प्राप्त हुआ ।