ये अनाज आपको कर देगा बीमार, सहकारी समितियों में भरा जा रहा घटिया अनाज

10

जबलपुर : अगर आप को अनाज की  बोरियों से सड़ा गला घटिया अनाज मिले तो आप चौंकिए नहीं क्योंकि यही सड़ा गला अनाज शायद अब गरीबों के हिस्से में आएगा। यह हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं, क्योकि तस्वीर  कुछ ऐसी ही नजर आई हैं, ये तस्वीर जो  हम आपको  दिखा  रहे हैं, ये  जबलपुर के पनागर क्षेत्र की  हैं। इस तस्वीर को आप देखेंगे तो चौक जाएंगे। यहां की सेवा सहकारी समिति नुनिया  कला में  जब एक स्थानीय पत्रकार प्रकाश प्यासी  रिपोर्टिंग करने पहुंचे, तो यहां का नजारा बेहद चौंकाने वाला था। पनागर स्थित नर्मदा वेयर हाउस में सैकड़ों  क्विंटल गेंहू  बदबू मार रहा था। हाल  यह था, कि यह गेहूं पूरी तरह से काला हो गया था। वेयरहाउस के सामने साड़ियों के ऊपर यह गेहूं फैला रखा था, तो कुछ अनाज यहां पन्नी से आधा ढका हुआ था। लेकिन उसमे भी  बदबू आ रही थी, तो पास ही कुछ महिलाएं इसी बदबू मार रहे गेहूं को साफ सुथरे बारदानों  में भर रही थीं।  लेकिन जब इनसे  जानकारी लेने पहुंचे तो वह कुछ भी बताने को तैयार नहीं हुईं। वहीं वेयर हाउस के पास ही तुली हुई कुछ बोरियां भी रखी हुई थीं। जब उनको खोल के देखा गया तो उसमे आधा गेंहू तो आधा मुर्गियों को खिलाने वाला दाना भरा हुआ था।

शासन के नियमों के अनुसार 24 मई को खरीदी  बंद हो चुकी  है। खरीदी केंद्रों में रखे अनाज  का ट्रांसपोर्टिंग का कार्य लगभग अब अंतिम चरण में है। लेकिन यह तस्वीर साफ कर रही है कि अभी यहां पर भारी मात्रा में अनियमितता है और स्व सहायता समूह जो कि इस बार महिलाओं को सौपे गए हैं उनके द्वारा यह कार्य किया जा रहा है इसमें ऊपर से लेकर नीचे तक के अधिकारी शामिल हैं। तस्वीरें बताने के लिए काफी है कि ग्रामीण इलाके के इन खरीदी केंद्रों में क्या चल रहा है सड़ा गला अनाज बोरियों में भरा जा रहा है लेकिन इस अनियमितता को रोकने वाला कोई नहीं है जाहिर सी बात है कमीशन का बड़ा खेल है तभी यह हाल चारों तरफ नजर आ रहा है बाहर हाल हम देखते हैं इन तस्वीरों को देखने के बाद अधिकारी कुछ एक्शन लेते हैं या फिर उसी तरह से शांत होकर बैठ जाते हैं।