रिजल्ट से पहले UP बोर्ड ने परीक्षार्थियों को नाम, माता-पिता के नाम की वर्तनी में सुधार का एक मौका दिया

18

माध्यमिक शिक्षा परिषद (यूपी बोर्ड) ने हाईस्कूल, इंटरमीडिएट की परीक्षा परिणाम से पहले परीक्षार्थियों को नाम, माता-पिता के नाम में किसी भी प्रकार की त्रुटि होने की दशा में सुधार का मौका दिया है। बोर्ड की ओर से यह सुविधा छात्रों व माता-पिता के नाम में किसी भी प्रकार की गलती रहे इसलिए दी गई है। वर्तनी में सुधार के लिए यूपी बोर्ड की वेबसाइट 14 व 15 जून को खोली जाएगी। इस दौरान स्कूल वर्तनी में सुधार कर सकेंगे। परिषद के सचिव दिव्यकांत शुक्ला ने प्रदेश के सभी सभी जिला विद्यालय निरीक्षकों को पत्र भेजा है।

हिंदी-अंग्रेजी में मांगे गए थे नाम
माध्यमिक शिक्षा परिषद की ओर से पिछले साल भी सभी परीक्षार्थियों से उनकी डिटेल हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में मांगी गई थी। सचिव दिव्यकांत शुक्ला ने बताया कि नाम में किसी प्रकार की गलती न हो इसके लिए पिछले साल भी वेबसाइट को खोली गई थी। इस बार भी 2021 की परीक्षा में ऐसी गलती न हो, इसके लिए बोर्ड की ओर से पहल की गई है। नाम में करेक्शन का काम विद्यालय स्तर पर होगा और प्रधानाचार्यों को इसकी जिम्मेदारी दी गई है। प्रदेश के सभी डीआइओएस को इसकी जिम्मेदारी दी गई है।

केवल वर्तनी में होगा सुधार, पूरा नहीं बदलेगा नाम
दिव्यकांत शुक्ला ने साफ कर दिया है कि केवल वर्तनी में ही सुधार करना है। किसी का भी पूरा नाम नहीं बदला जाएगा। विद्यालय के अभिलेख में आवेदन पत्र, छात्र पंजिका में जिस तरह से छात्र-छात्राओं के नाम, माता-पिता के नाम दर्ज हैं, ठीक उसी प्रकार से वर्तनी में संशोधन के बाद नाम किया जाएगा। संशोधन अंग्रेजी व हिंदी दोनों भाषाओं में करना होगा। जिला विद्यालय निरीक्षकों को इसकी जिम्मेदारी दी गई है। उनसे कहा गया है कि नामों में करेक्शन का काम विद्यालय पहले ही देख लें। वेबसाइट खुलने के बाद ताकि केवल करेक्शन ही करना रह जाए।