इन लोगों की ली जा रही है मदद, जिले को स्वच्छ बनाने के लिए, जानिए कौन है लोग

6

फरीदाबाद : [मामेन्द्र कुमार ] 8 मार्च को डीसी यशपाल यादव के द्वारा एक मीटिंग ली गई थी। जिसमें उन्होंने कहा था कि 30 जून को फरीदाबाद को किसी भी कीमत में कचरा मुक्त बनाना है। उसी को लेकर उनके द्वारा हर वार्ड का रख रखाव के लिए एक नोडल अधिकारी बनाया गया था। जिसमें उस वार्ड को साफ और स्वच्छ रखने की जिम्मेदारी उस नोडल अधिकारी की होगी। लेकिन उसके बाद महामारी का दौर शुरू हो गया। स्वच्छ फरीदाबाद का जो कार्य चल रहे थे, वह सभी रुक गए। इसी मुहिम को आगे बढ़ाते हुए 2 अक्टूबर तक फरीदाबाद को किसी भी कीमत पर स्वच्छ बनाना है।

इसी को लेकर बुधवार देर शाम जूम ऐप के जरिए जिले के विभिन्न को आरडब्ल्यूए के साथ नगर निगम कमिश्नर गरिमा मित्तल की मीटिंग ली। जिसमें जिले के आरडब्ल्यूए के साथ-साथ उद्योगपति व जिलेवासियों ने भाग लिया। जिसमें नगर निगम कमिश्नर गरिमा मित्तल के द्वारा 2 अक्टूबर तक फरीदाबाद बनाने का मुख्य मुद्दा रखा गया। जिसमें सबसे पहले उनके द्वारा वीडियो दिखाई दे। जिसमें उन्होंने बताया कि जिस प्रकार देश का इंदौर शहर साफ सफाई में नंबर वन बना। उसी तर्ज पर मैं फरीदाबाद को भी नंबर पर बनाना चाहते हैं। इसको लेकर उन्होंने कहा कि अगर आरडब्ल्यूए अपने अपने घरों के पास डस्टबिन रख कर गिला व सूखा कचरा अलग अलग करते हैं ,तो उससे उनको काफी सुविधा होगी। अगर शहर को स्वच्छ रखना है, तो हम को सबसे पहले यह पता होना चाहिए कि शहर में जगह-जगह गली गली, नुक्कड़ नुक्कड़ पर कितने कूड़े के खते बने हुए हैं।

इसके लिए अगर वह नगर निगम की टीम का सहारा लेती है, तो उनको काफी समय लगता है। इसलिए वह इस मीटिंग के जरिए लोगों से गुजारिश करती है कि अगर उनके घरों के आसपास कोई भी खता बना हुआ है। तो वह उसकी फोटो क्लिक कर व उस एरिया की लोकेशन उनको व्हाट्सएप कर दें। ताकि उनका जो सर्वे है वह जल्द से जल्द हो जाए और वह स्वच्छ फरीदाबाद की और अपना कार्य को आगे बढ़ा सके। उनके द्वारा एक नंबर भी दिया गया है। जिसमें वह फोटो क्लिक करके व्हाट्सएप कर सकते हैं और लोकेशन भी दे सकते हैं। इससे उनका सर्वे भी पूरा हो जाएगा और जो पैसा सर्वे में खर्च करते उस पैसे का स्मार्ट स्वच्छ फरीदाबाद को बनाने में करेंगे।इसके अलावा उन्होंने आर डब्ल्यू ए से गुजारिश की है कि वह अपने अपने एरिया में दो डस्टबिन रखें जिसमें सूखा व गीला कूड़ा अलग अलग किया जाए। उन्होंने आरडब्ल्यू से यह भी कहा है कि उनके पास इतना बजट नहीं है कि वह हर आरडब्लूए को डस्टबिन प्रोवाइड करा सकें। इसीलिए डस्टबिन की समस्या उनको खुद ही सुलझानी होगी।

रेन वाटर हार्वेस्टिंग को लेकर नहीं हुई कोई बात

कनफेडरेशन ऑफ आरडब्लूए के सेक्रेटरी जनरल ए एस गुलाटी ने बताया कि बुधवार शाम को ज़ूम ऐप के जरिए जो मीटिंग ली गई। उसमें फरीदाबाद स्वच्छ बनाने को लेकर तो बात की गई। लेकिन रेनवाटर हार्वेस्टिंग को लेकर किसी प्रकार की कोई बातचीत नहीं की गई। उन्होंने बताया कि आने वाले कुछ दिनों में मॉनसून आने वाला है। जिसके चलते उन्होंने नगर निगम से गुजारिश की थी कि जिले के जितने भी रेन वाटर हार्वेस्टिंग है। उनको साफ किया जाए। ताकि बरसात का पानी सड़कों पर ना बहे  और वह पानी रेनवाटर हार्वेस्टिंग के जरिए ग्राउंडवाटर लेवल को बढ़ाने में कारगर साबित हो।कनफेडरेशन ऑफ आरडब्ल्यूए के चेयरमैन एनके गर्ग ने कहा कि नगर निगम अधिकारियों, पार्षद और आर डब्ल्यू ए का एक व्हाट्सएप ग्रुप बना होना चाहिए। उसमें नालों की सफाई और जलभराव की समस्या के बारे में उनको अवगत कराया जा सके और उस समस्या का समाधान जल्द से जल्द की जा सके।