सी शंकरन नायर के जीवन गाथा पर आधारित बायोपिक फिल्म बनाएंगे करण जौहर

10

मुंबई : [मामेंद्र कुमार] करण जौहर ने अपनी अगली फिल्म की घोषणा कर दी है। यह फ़िल्म सी शंकरन नायर की जीवनगाथा और जलियांवाला बाग हत्याकांड से जुड़े तथ्यों पर आधारित होगी। मूल रूप से यह बायोपिक
जलियांवाला बाग हत्याकांड के पीछे की सच्चाई को उजागर करने के लिए सी शंकरन नायर की लड़ाई का दस्तावेज है जो धर्मा प्रोडक्शंस और स्टिल एंड स्टिल मीडिया की संयुक्त प्रस्तुति ‘द अनटोल्ड स्टोरी ऑफ सी. शंकरन नायर’ में अनोखे अंदाज़ में पेश की जाएगी। एक ऐसी वीरता जिसने पूरे देश में स्वतंत्रता संग्राम को एक नई दिशा दी करण एस त्यागी द्वारा निर्देशित सी. शंकरन नायर की अनकही कहानी को धर्मा प्रोडक्शंस के बैनर तले बड़े पर्दे पर लाने का रिस्क फिल्म मेकर करण जौहर ने उठा ली है। स्वतंत्रता संग्राम के काल खंड में सी शंकरन नायर एक चर्चित शख्सियत के रूप में उभर कर सामने आए थे।11 जुलाई, 1857 को जन्मे, सी शंकरन नायर एक वकील थे, जिन्होंने 1897 में अमरावती में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया। एकमात्र भारतीय प्रतिनिधि होने के नाते, उन्होंने जलियांवाला बाग हत्याकांड के बाद वायसराय की कार्यकारी परिषद से इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने जलियांवाला बाग हत्याकांड के बारे में सच्चाई जानने के लिए ब्रिटिश राज से लड़ाई लड़ी थी। कालीदास पांडे का कहना है कि पुष्पा पलट और रघु पलट के द्वारा लिखी गई किताब ‘द केस दैट शुक द एम्पायर : वन मैन्स फाइट फॉर द ट्रुथ’ में उल्लेखित तथ्यों को इस फिल्म की कथावस्तु का आधार बनाया गया है।