गंगाजल से होगा कोरोना का खात्मा? याचिका पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने केंद्र और ICMR से मांगा जवाब

11

प्रयागराजः ‘गंगाजल से कोरोना का इलाज संभव है’ मामले ने एक बार फिर तूल पकड़ लिया है और अब यह मामला इलाहाबाद हाईकोर्ट पहुंच चुका है। इलाहाबाद हाईकोर्ट में एक याचिका दाखिल की गई है जिसमें ये दावा किया गया है कि गंगाजल से कोरोना का इलाज संभव है। इस याचिका को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने स्वीकार कर लिया है। इसे लेकर हाईकोर्ट ने सेंट्रल गवर्नमेंट की एथिक्स कमेटी और ICMR को भी नोटिस भेजकर जवाब मांगा है।
PunjabKesari
हालांकि याचिका पर सुनवाई होने के बाद साधु संत और आम जनता का कहना है कि गंगा जल में कभी कीड़े नहीं पड़ते। साथ ही गंगाजल में अनेकों प्रकार के एलिमेंट्स पाए जाते है जो शरीर के लिए लाभदायक होते है। इसलिए कोरोना का इलाज इससे संभव हो सकता है। हाईकोर्ट ने सेंट्रल गवर्नमेंट की एथिक्स कमिटी और ICMR दोनों संस्थानों को छह हफ्ते का समय दिया है।
PunjabKesari
इस विषय पर साधु संतों और आम नागरिकों से जानने की कोशिश की गई कि आखिर वो कितने सहमत है। स्वामी विश्वेश्वरा महाराज के मुताबिक गंगा नदी हिमालय से होकर के प्रदेश के अन्य जिलों से होकर गुजरती है, ऐसे में हिमालय में तरह-तरह की जड़ी बूटियां को अपने साथ लेकर के वह हर जिले में आती है।
PunjabKesari
वैज्ञानिकों ने भी यह दावा किया है कि गंगाजल में कभी भी कीड़े नहीं लगते हैं, चाहे जल जितना भी पुराना हो, इसलिए गंगाजल में इंसान की इम्युनिटी को मजबूत बनाने साथ ही साथ प्रतिरोधक क्षमता को बनाए रखने में कारगर साबित होता है। हालांकि कई जिलों में नदी में प्रदूषित पानी जरूर आता है लेकिन उससे गंगाजल को कोई हानि नहीं होती।
PunjabKesari
इस मामले में पंजाब केसरी के संवाददाता ने संगम तट का जायजा लिया और वहां मौजूद कुछ लोगों से बात की है। बातचीत करने पर लोगों के कहा कि जब वैज्ञानिक गंगाजल पर और शोध करेंगे तो उनको परिणाम के रूप में यह जरूर सामने आएगा कि गंगाजल में सभी वह तत्व मौजूद हैं जिससे शरीर मे हुए कोरोना को कम या खात्मा किया जा सकता है। गौरतलब है कि इलाहाबाद हाई कोर्ट में अरुण गुप्ता ने एक जनहित याचिका दाखिल की है जिसमें उन्होंने कहा है कि गंगाजल से कोरोना का इलाज संभव है और इस पूरे मामले पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने केंद्र और आईसीएमआर से छह हफ्तों में जवाब मांगा है।