लोकगायक रवि लाल यादव और ट्रेंडिंग सिंगर शिल्पी राज का धमाकेदार लोकगीत “पंडित जी के पतरा” वर्ल्डवाइड रिकार्ड्स ने किया जारी

48

मुंबई : [मामेंद्र कुमार]भोजपुरी लोकगीतों को उच्च स्तर पर प्रोमोट करने के लिए विख्यात म्यूज़िक कंपनी वर्ल्डवाइड रिकार्ड्स ने लोकगायक रवि लाल यादव का एक बहुत ही धमाकेदार लोकगीत “पंडित जी के पतरा” रिलीज किया है जिसे कुछ ही घन्टे में यूट्यूब पर काफी व्यूज मिल गए हैं। रवि लाल यादव और ट्रेंडिंग सिंगर शिल्पी राज की मधुर आवाज में यह एक अनोखे अंदाज वाला सांग है। रवि लाल यादव ने इसमें एक पंडित जी की भूमिका निभाई है वो मंदिर में पूजा पाठ में व्यस्त रहते हैं तभी कुछ लड़कियां वहां आ जती हैं और उनसे एक बालिका पूछ बैठती है पंडित जी बताईं न बियाह कब होई? अब पंडित जी अपना पत्रा देखकर उसकी शादी के बारे में बताते हैं। गाना बहुत रोचक ढंग से फ़िल्माया गया है। मंदिर के अलावा गीत चलती नाव पर भी शूट किया गया है इसलिए यह बहुत ही प्यारा दिख रहा है।

लिंक

वर्ल्डवाइड रिकार्ड्स प्रस्तुत लोकगीत “पंडित जी के पतरा” को रवि लाल यादव और स्टार गायिका शिल्पी राज ने अपनी विशेष शैली में गाया है। गाने के खूबसूरत शब्दों को सोनू सरगम ने लिखा है जबकि संगीतकार राजा भट्टाचार्य और सोनू सरगम हैं। गाने के अरेंजर कैलाश पांडेय हैं। वीडियो डायरेक्टर गोविन्द प्रजापति, कोरियोग्राफर आकाश राज और एडिटर रमेश यादव हैं। गीत की परिकल्पना उपेन्द्र यादव की है।

वर्ल्डवाइड रिकार्ड्स भोजपुरी ने एक बार फिर यह सिद्ध कर दिया है कि अच्छे लोकगीतों को श्रोताओ व दर्शकों तक पहुंचाने में उसका अपना एक बड़ा रोल है। भोजपुरी के तमाम दर्शकों को भी इस तरह के साफ सुथरे और अपनी जड़ों से जुड़े गीतों को खूब आगे बढ़ाना चाहिए ताकि इस भाषा की गरिमा बरकरार रहे और बेहतरीन गीत संगीत बनाने वाले और इसे रिलीज करने वालों का मनोबल हमेशा ऊंचा रहे।