डीजे- नेताओं कि रैलियों, कावड़ यात्रा से लाउडस्पीकर बैन हों, बोले ओपी राजभर

लाउडस्पीकर मामले को लेकर ओम प्रकाश राजभर ने शादियों में बजने वाले डीजे और नेताओं की रैलियों में लगने वाले लाउडस्पीकर पर भी रोक लगाने की मांग की है.

0 74

लाउडस्पीकर मामले को लेकर सुभासपा अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने शादियों में बजने वाले डीजे और नेताओं की रैलियों में लगने वाले लाउडस्पीकर पर भी रोक लगाने की मांग की है. उन्होंने कांवड़ यात्रा पर भी सवाल उठाते हुए कहा कि अगर सड़क पर नमाज़ नहीं होगी तो कांवड़ यात्रा को भी सड़कों पर रोका जाएगा क्या? राजभर ने कहा कि नमाज़ सड़कों पर तभी पढ़ी जाती है जब मस्जिद में जगह नहीं होती है, ऐसे में आधे एक घण्टे की नमाज सड़कों पर नहीं होगा तो कांवड़ यात्रा में तो सड़कों पर कब्ज़ा हो जाता है, उसपर नियंत्रण कैसे करेंगे.

 

उन्होंने कहा कि लोगों को कांवड़ यात्रा में जाना ही नहीं चाहिए क्योंकि उच्च जाति के लोग कांवड़ में नहीं जाते, सिर्फ छोटी जाति के लोग जाते हैं. इसलिए उन्हें आगे बढ़ना है तो कांवड़ यात्रा पर नहीं जाना चाहिए. नेताओं की रैलियों में लाउडस्पीकर पर भी रोक की मांग की है. उमर अब्दुल्ला के मुस्लिमों के डरे होने के बयान का समर्थन करते हुए राजभर ने कहा कि महंगाई और बिजली जैसे मुद्दों से ध्यान भटकाने से ये सब किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि अगर ईद के बाद बिजली व्यवस्था सुधरी तो उमर की बात सही हो जाएगी वरना शायद व्यवस्था में दिक्कत है।

 

राजभर ने कहा कि सब हिंदूवादी हैं जो आपस मे मिले हुए हैं

 

शिवसेना के योगी की तारीफ़ पर ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि सब हिंदूवादी हैं जो आपस मे मिले हुए हैं. राजभर ने कहा कि सिर्फ पिछड़े और दलित ही हिन्दू हैं, ब्राह्मण हिन्दू नहीं हैं. सपा के वरिष्ठ नेता आजम ख़ान की नाराज़गी की खबरों के बीच सुभासपा अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर भी आजम ख़ान से मिलने सीतापुर की जेल जाएंगे. उन्होंने आज़म खान की नाराज़गी की ख़बरों को ख़ारिज करते हुए कहा कि उन्होंने जेल प्रशासन से समय मांगा है. शिवपाल यादव की नाराज़गी को पारिवारिक मामला बताते हुए सब ठीक होने का दावा राजभर ने किया है.

बता दें कि उत्तर प्रदेश में सीएम योगी के आदेश के बाद धार्मिक स्थलों से लाउडस्पीकर हटाने या फिर उनकी आवाज कम करवाए जाने का काम लगातार किया जा रहा है. प्रदेश भर में अब तक 45 हजार से ज्यादा लाउडस्पीकर हटाए जा चुके हैं. जबकि 58 हजार से ज्यादा लाउडस्पीकर की आवाज को तय मानकों के हिसाब से कम करवा दिया गया है. मंदिर हो या मस्जिद सभी धार्मिक स्थलों से प्रशासन द्वारा लाउडस्पीकर हटवाए जा रहे हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.