क्राइस्ट यूनिवर्सिटी के “खास कदम” से होगा NCR के 10 हजार छात्रों को फायदा।

64
Father JC Jeorge and Anand Pillayi

गाजियाबाद। दिल्ली NCR के छात्रों की शिक्षा, रोजगार और भविष्य से जुड़ी अनगिनत समस्याओं के समाधान के लिए क्राइस्ट यूनिवर्सिटी ने खास कदम उठाया है। इसके तहत शिक्षा और अनुसंधान से जुड़े विशेष पहलुओं को विशेषज्ञों का पैनल शैक्षणिक वर्ष 2024 – 2025 में निर्णायक मोड़ देगा। डिप्रेशन और आत्महत्या की बढ़ती परेशानी को देखते हुए इसमें पढ़ाई के साथ-साथ स्ट्रेस मैनेजमेंट पर भी विशेष जोर दिया जाएगा। इस बात का फैसला यूनिवर्सिटी के दिल्ली एनसीआर कैंपस के निदेशक और डीन, डॉ. फादर जोसी जॉर्ज ने लिया है।

उदघाटन और स्टाफ ओरिएंटेशन:

क्राइस्ट यूनिवर्सिटी, दिल्ली एनसीआर कैंपस के निदेशक और डीन, डॉ. फादर जोसी जॉर्ज ने एक बड़ा फैसला लेते हुए घोषणा की है कि नए शैक्षणिक वर्ष 2024-2025 में विश्वविद्यालय की शैक्षणिक और अनुसंधान सुविधाओं का विस्तार किया जाएगा। इससे दिल्ली एनसीआर के लगभग 10,000 छात्रों और उनके माता-पिता को फायदा होगा, जिससे उनकी शिक्षा और भविष्य के अवसरों में सुधार होगा।

यह घोषणा शैक्षणिक वर्ष 2024-2025 के उद्घाटन और स्टाफ ओरिएंटेशन सत्र के मौके पर की गई। इस कार्यक्रम का आयोजन डॉ. फादर जोसी जॉर्ज ने किया, जिसमें नेतृत्व मैटर्स इंक. के एमडी और मुख्य परिवर्तन अधिकारी श्री आनंद पिल्लई ने छात्रों के उज्जवल भविष्य और शिक्षकों (फैकल्टीज़) के बेहतर मेंटरिंग से जुड़ी विशेष जानकारियां साझा की। उनकी दी गई सलाह यूनिवर्सिटी के लिए मील का पत्थर साबित होंगी। इस मौके पर आनंद पिल्लई को फादर जोसी जॉर्ज द्वारा सम्मानित किया गया।

साइकोमेट्रिक टेस्ट:
सत्र का उद्देश्य आने वाले शैक्षणिक वर्ष के लिए शिक्षकगण को प्रेरित करना था, जिसकी शुरुआत एक साइकोमेट्रिक टेस्ट से हुई। श्री पिल्लई ने महत्वपूर्ण जीवन कौशलों पर अपने विचार साझा किए, जैसे समायोजन, प्रतिस्पर्धा, सहयोग, परिहार, और बातचीत की महत्वता। उन्होंने जीत और हार के विभिन्न पहलुओं को समझाते हुए शिक्षकगण को पेशेवर और व्यक्तिगत जीवन में लागू करने के लिए व्यावहारिक सुझाव दिए।

स्ट्रेस मैनेजमेंट समय की मांग:
डॉ. फादर जोसी जॉर्ज की इस तरह के प्रेरणादायक सत्र का आयोजन करने की पहल विश्वविद्यालय की एक सहायक और प्रेरणादायक शैक्षिक वातावरण को बढ़ावा देने की प्रतिबद्धता को दर्शाती है। क्राइस्ट यूनिवर्सिटी का दिल्ली एनसीआर कैंपस शिक्षा में उत्कृष्टता के लिए जाना जाता है, जो स्नातक, स्नातकोत्तर और डॉक्टोरल कार्यक्रमों की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करता है। इस कैंपस में आधुनिक कक्षाएं, सुसज्जित प्रयोगशालाएं, एक व्यापक पुस्तकालय और विभिन्न खेल और मनोरंजन सुविधाएं हैं।
विश्वविद्यालय छात्रों के समग्र विकास पर जोर देता है, उन्हें अकादमिक रूप से उत्कृष्टता प्राप्त करने के साथ-साथ अतिरिक्त पाठ्यक्रम गतिविधियों में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करता है। नवाचार, अनुसंधान और सामुदायिक सहभागिता पर ध्यान केंद्रित करते हुए, क्राइस्ट यूनिवर्सिटी दिल्ली एनसीआर कैंपस क्षेत्र में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा का प्रतीक बना हुआ है।

सकारात्मक शुरुवात की पहल
जैसे ही नया शैक्षणिक वर्ष शुरू होता है, क्राइस्ट यूनिवर्सिटी, दिल्ली एनसीआर कैंपस के शिक्षक अच्छी तरह से तैयार और प्रेरित हैं, जो आगे आने वाली चुनौतियों और अवसरों का सामना करने के लिए तैयार हैं। जीवन कौशल और पेशेवर विकास पर जोर देने वाला यह सत्र निश्चित रूप से शिक्षकों और छात्रों दोनों को लाभान्वित करेगा, और आने वाले वर्ष के लिए एक सकारात्मक शुरुआत करेगा।

70% छात्र तनावग्रस्त होते हैं:
एक हालिया सर्वेक्षण के अनुसार, 70% छात्र शैक्षणिक तनाव का सामना करते हैं, जो उनके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर गंभीर प्रभाव डाल सकता है। इसलिए, क्राइस्ट यूनिवर्सिटी द्वारा स्ट्रेस मैनेजमेंट पर विशेष ध्यान देना एक महत्वपूर्ण कदम है, जो छात्रों को बेहतर शैक्षणिक प्रदर्शन और समग्र विकास में सहायता करेगा।

नए शैक्षणिक वर्ष की शुरुआत के साथ, क्राइस्ट यूनिवर्सिटी के दिल्ली एनसीआर कैंपस के शिक्षक पूरी तरह से तैयार और प्रेरित हैं। वे छात्रों के शैक्षणिक और व्यक्तिगत विकास के लिए हर संभव प्रयास करेंगे। यूनिवर्सिटी का यह कदम छात्रों को एक उज्जवल और सफल भविष्य की दिशा में अग्रसर करेगा।

(निपुणिका शाहिद, मीडिया सेंटर, क्राइस्ट यूनिवर्सिटी, दिल्ली एनसीआर कैंपस)